पीडीएस स्कैम और मनी लॉन्ड्रिंग केस में लगातार चल रही है पेशी

0 आज सोमवार को और कल फर्स्ट हाफ मंगलवार को सेशन कोर्ट में पेश हुए शुक्ला-टुटेजा

रायपुर। विशेष संवाददाता टीआरपी
भाजपा शासनकाल में हुए नान घोटाले के दो प्रमुख आरोपी सोमवार को रायपुर कोर्ट में पेश हुए। लगातार कल भी आईएएस अनिल टुटेजा और पूर्व आईएएस अलोक शुक्ला की पेशी है। बता दें कि पीडीएस स्कैम और मनी लॉन्ड्रिंग केस (PDS)में कुल 18 को आरोपी बनाया गया है जिसमे दोनों अफसरों को भी आरोपी बनाया गया है। केस में दोनों को अग्रिम मिल चुकी थी। बता दें कि रायपुर के प्रवर्तन निदेशालय द्वारा मनी लॉन्ड्रिंग का मामला जनवरी, 2019 को दर्ज किया गया था, जो कि एन्टी करप्शन ब्यूरो और आर्थिक अपराध अन्वेषण शाखा, रायपुर द्वारा वर्ष 2015 में पंजीकृत अपराध से उत्त्पन्न हुआ है। जिसमें नागरिक आपूर्ति निगम के 28 ठिकानों पे छापा मार कर करोड़ों रुपए बरामद किए थे। इस मामले में 28 लोगो के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था जिसमें अनिल टुटेजा और डॉ.आलोक शुक्ला का नाम नहीं था। क्योंकि उनसे कोई रुपये बरामद नहीं हुई थे। एन चुनाव के पहले करीब ढाई साल बिताने के बाद राज्य सरकार ने पुरक चलान पेश करते हुए दोनों ही अधिकारी के नाम शामिल किए थे।

अनिल टुटेजा और डॉ.आलोक शुक्ला के वकील ने पूर्व में अग्रिम जमानत लगाते हुए कोर्ट को बताया था कि अपराध रायपुर के ई.डी आफिस में 9.1.2019 को पंजीकृत किया गया, जबकि संमन्स दिल्ली के ईडी आफिस से 13.3.2020 को जारी किए। वो भी ऐसे वक्त में जहां करोना वायरस के बढ़ते केसेस की वजह से सेहत को खतरा और वापस लौटने पर राज्य सरकार के 14 दिन मेंडेटरी क्वारंटाइन होना अनिवार्य है। ईडी. द्वारा जारी संमन्स में दोनों अधिकारी ने पूरा सहयोग दिया था और उपस्थिति दिल्ली जाकर दी जिसमे 3 दिन तक पूछताछ चली। यह भी बता दें कि विधेय अपराध में अनिल टुटेजा को 29.04.2019 को और डॉ.आलोक शुक्ला को 16.8.2019 को प्रत्यक्ष प्रमाण की गैर उपस्थिति पर अग्रिम जमानत प्राप्त है और निचली अदालत पर चल रहा विधेय अपराध की सुनवाई पर हाई कोर्ट से स्टे था।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button