देश के ग्रामीण क्षेत्र की बच्चियों ने मिलकर बनाया 8 किग्रा वज़नी उपग्रह, छग की बेटियां भी शामिल

रायपुर। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन रविवार को एक 8 किग्रा वज़नी छोटा उपग्रह अंतरिक्ष में भेजेगा। ‘आजादी सेट’ नाम के इस अंतरिक्ष उपकरण को उपग्रह प्रक्षेपण यान से श्रीहरिकोटा से सवेरे नौ बजकर अठारह मिनट पर छोडा जायेगा। इस सेटेलाइट को पुरे देश के ग्रामीण इलाकों के सरकारी स्कूलों की 750 छात्राओं ने डिजाइन किया है। इसे तैयार करने में 6 महीने का समय लगा है।

छत्तीसगढ़ की बेटियां भी बनेंगी गवाह

बता दें कि इस छोटे सैटेलाइट को एसएसएलवी के माध्यम से अंतरिक्ष में भेजा जायेगा। इसे देश अगल अलग ग्रामीण इलाकों के 75 स्कूलों में पढ़ने वाली 750 बच्चियों ने तैयार किया है। इस उपग्रह को बनाने में छत्तीसगढ़ की बेटियों का भी योगदान है। छत्तीसगढ़ के कवर्धा और महासमुंद जिले की बच्चियां इस प्रोग्राम का हिस्सा हैं। ये छोटा सैटेलाइट अंतरिक्ष से ज़मीन की मैपिंग करेगा और अंतरिक्ष में देश के राष्ट्रध्वज तिरंगे झंडे को फहरायेगा।

पहली बार अंतरिक्ष ले कर जायेगा इतना छोटा उपग्रह

गौरतलब है कि एसएसएलवी के लिए ये पहला मौका होगा जब वो इतने छोटे उपग्रह को अंतरिक्ष लेकर जायेगा। 8 किलो के इस सैटेलाइट में जिसमें 50-50 ग्राम वजन वाले 75 अलग अलग पेलॉ्डस होंगे। इन पेलोड में सेल्फी कैमरे से लेकर फ्रिक्वेंसी रिकॉर्ड करने वाले मीटर हैं। इन्हें एसएसएलवी के जरिए लो अर्थ ऑर्बिट में छोड़ा जाएगा।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button