टीआरपी डेस्क। सिंगिंग रियलिटी शो ‘सुपरस्टार सिंगर सीजन 2’ का यहां शनिवार रात हुए फिनाले में जोधपुर, राजस्थान के मोहम्मद फैज ने बाजी मार ली है। मोहम्मद फैज को विनर की ट्रॉफी के साथ साथ ही उन्हें 15 लाख रुपये का नकद पुरस्कार भी मिला।

2018 में इन कॉम्पिटिशन में उपविजेता रह चुके फैज

ग्रैंड फिनाले पहुंचे टॉप 6 फाइनलिस्ट में फैज ने मणि, आर्यानंदा, प्रांजल , ऋतुराज और सायिशा को मात दी। मोहम्मद फैज इससे पहले साल 2018 में ‘लव मी इंडिया किड्स’ और ‘सारेगामापा लिटिल चैंपियन’ के उपविजेता रह चुके हैं। ‘

पहली बार गाने के मिले 10 रुपये

मोहम्मद फैज ने अपने नाना उस्ताद शकूर खान और दादा उस्ताद वसीर खान की संगत में उन्होंने बचपन से ही संगीत सीखना शुरू किया। फैज कहते हैं, ‘संगीत की धुन मेरे कानों में पहली बार बचपन में खेलते वक्त पड़ी। नानाजी और दादाजी की संगीत कक्षाओं से निकले इस संगीत को सुनकर मेरा झुकाव इस तरफ हुआ। मेरे नाना जी कहते थे, एक गाना सुनाने के बदले में 10 रुपये मिलेंगे। मैं रोज नए नए गाने याद करके उन्हें सुनता था और 10 रुपये मुझे मिलते। मुझे याद है मैंने नानाजी को ऋतिक रोशन की फिल्म ‘अग्निपथ’ का गीत ‘अभी मुझसे कहीं’ सबसे पहले सुनाया। और इसके मुझे 10 रुपये मिले थे।’

राजस्थान के जोधपुर के रहने वाला 14 साल के फैज इस जीत को लेकर काफी रोमांचित हैं। बॉम्बे टाइम्स के साथ एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा, ‘जब मुझे शो का विजेता घोषित किया गया, तो मेरे आस-पास हर कोई रो रहा था और तालियां बजा रहा था।

इस शो पर मुझे विनर घोषित करने के बाद मेरी मां ने मुझे मंच पर उठा लिया। मेरे पिता इंडिया से बाहर रहते हैं। मैंने उनसे बात की और वह मेरी इस जीत पर बेहद खुश थे। यहां तक कि मेरी मां और बहनों के खुशी के आंसू देखकर मुझे बहुत अच्छा लगा कि मैंने मेरे आस-पास सभी लोगों को प्राउड फील करवाया।

मेरा इस शो पर कोई कॉम्पिटिटर नहीं

इस शो में अपने एक्सपीरियंस को लेकर फैज कहा कि उन्हें कभी भी इस शो पर प्रेशर फील नहीं हुआ, बल्कि पिछले कुछ महीनों से हमेशा शांत रहने की कोशिश की। फैज ने कह, ‘मैंने इस शो पर कभी भी कॉपीटिशन और फिनाले को लेकर नहीं सोचा। हम सबके लिए यहां गाना मतलब सिर्फ म्यूजिक सीखना और परफॉर्म करने पर फोकस करना था। हमने कभी एक-दूसरे के साथ मुकाबला करने के लिए नहीं गाया। वास्तव में, मेरे दिमाग में, मेरा मुकाबला खुद से ही चल रहा था। हर बार मैं पिछले वाले की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करना चाहता था। इसलिए मैं केवल अपने स्किल्स पर काम कर रहा था क्योंकि मुझे हर बार खुद को हराना था, बजाय यह देखने के कि दूसरे कैसे गा रहे हैं।’

‘मैं हर तरह के गाने गाना चाहता हूं’

यह पूछे जाने पर कि उनकी पसंदीदा शैली (म्यूजिक जॉनर) कौन सी है, उन्होंने कहा, ‘इस शो में, मैंने सूफी से लेकर गजल से लेकर रोमांटिक तक हर शैली के गाने गाए हैं। मैं खुद को एक बहुमुखी गायक कहना चाहता हूं। एक कलाकार के रूप में, भविष्य में मैं सभी तरह के गाने गाना चाहता हूं।

बता दें फैज अभी नौवीं कक्षा में है, वह म्यूजिक को पढ़ाई के साथ बैलेंस करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘आगे बढ़ते हुए मैं अपनी पढ़ाई पर ध्यान देना चाहता हूं और सिंगिंग में भी बेहतर होना चाहता हूं। मैं रियाज करता रहना चाहता हूं और दर्शकों से जुड़ा रहना चाहता हूं।’

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर