रायपुर। सीएम भूपेश बघेल ने राजनांदगांव जिले में हुए भेंट मुलाकात के अगले दिन अधिकारियों की समीक्षा ली। अंबागढ़ चौकी स्थित सर्किट हाउस में आयोजित इस बैठक में CM ने चंद अधिकारियों की निष्क्रियता पर उन्हें कड़ी फटकार लगाई।

अब तक केवल 2 हॉस्टल का निरिक्षण…

इस बैठक के दौरान CM ने मानपुर एसडीएम पर नाराजगी जाहिर करते हुए उनसे पूछा कि कितने हॉस्टल का निरीक्षण किया। एसडीएम ने बताया कि 2, इस पर कहा गया कि हॉस्टल का इशु तो सबसे सेंसिटिव होता है, इसकी फ्रीक्वेंसी बढ़े।

डीएफओ से पूछा गया कि कल भेंट-मुलाकात में संग्राहकों ने शिकायत की। डीएफओ ने बताया कि 2 मामलों में पूर्ण भुगतान हुआ है इसकी जांच की गई। शेष 2 मामलों में फड़मुशी की गलती पाई गई। इसे गंभीर शिकायत बताते हुए कहा गया कि इसमें पावती वाला कुछ सिस्टम करें और फीडबैक लें। इससे होगा ये कि भुगतान किसी तकनीकी कारण से नहीं आया हो तो पता चल जाएगा।

प्रबंधक को किया गया है निलंबित

धान खरीदी को लेकर CM ने पूछा कि कोरचटोला में एक मामले में पेमेंट कम क्यों हुआ, तब बताया गया कि इसका रिकॉर्ड देख रहे हैं। प्रबंधक ने हमें सही फीडबैक नही दी। उन्हें निलंबित किया गया है।जहां कहीं भी अंतर पाया गया जांच में, प्रबंधकों पर कार्रवाई की जाएगी। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि 8 दिन में रिपोर्ट दें।

बाहर से धान रोकने 3 चेक पोस्ट

कहा गया कि अक्सर फोकस मेन रोड पर होता है लेकिन ये पोरस बॉर्डर है। हर इलाके पर निगरानी रहे। एक बात ध्यान देनी है कि किसी समिति में ज्यादा धान एक ही दिन में आ जाये तो इस पर बारीक नजर रखें, इससे पता लगेगा कि यहां बाहर से भी धान खपाया जा रहा है।

सचिवों को भी चेताया

मुख्यमंत्री ने कहा कि – सचिव भी अलर्ट रहें। जिन हितग्राहियों को किसी कारण से डीबीटी ट्रांसफर नहीं हुआ या कम हुआ है, तो इसकी जानकारी लें और त्रुटि सुधार के लिए भेजें। इसके लिए मेकेनिज़्म बनाना होगा।

डायबिटीज बढ़ने पर जताई चिंता

CM ने इस बात पर चिंता जताई कि डायबिटीज की बीमारी के केस हाट बाजार में ज्यादा आ रहे हैं। ये लाइफ स्टाइल से जुड़ी बीमारी अधिक है। गांव में तो लोग मेहनतकश होते हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में शुगर के मरीज बढ़ने पर स्क्रीनिंग की जाये।

पेयजल को लेकर आर्सेनिक की समस्या पर चर्चा। पानी में आयरन मिश्रण होने की जानकारी पर उसके समुचित उपचार हेतु आयरन रिमूवर मशीन लगाने के निर्देश।

  • अधिकारियों को निर्देश-सुपोषण के मामले में व्यवहार परिवर्तन बहुत जरूरी है। आंगनबाड़ियों में पर्याप्त जगह है सुपोषण वाटिकाएं बनाएं, बच्चों को बताएं कि यह वाटिका उनके पोषण के लिए कितनी उपयोगी है। घर में भी बच्चों को अच्छा भोजन मिले, इसके लिए परिवार जनों की काउंसलिंग करें।
  • पोषण के लिए अंडे का उत्पादन स्थानीय समूह ही करें, इससे पोषण भी मजबूत होगा और आय भी बढ़ेगी।

मीडिया वालों को साथ ले जाएं

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पूछने पर एक मामले में पीएचई के ईई ने बताया कि एक हैंडपम्प में पानी मे आयरन पाया गया। शेष ठीक है। जांच के लिए कल ही टीम पहुंची थी।मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे मामलो में मीडिया वालों को भी साथ ले जाएं ताकि वस्तुस्थिति की जानकारी हो और इस तरह की अतिरंजित कर की गई शिकायत न आये।

मरीजों से करें अच्छा व्यवहार

मुख्यमंत्री ने कहा कि छुरिया में हेल्थ ऑफिसर और स्टाफ द्वारा लोगों से दुर्व्यवहार की शिकायत आई है। यह नहीं होना चाहिए। इस पर छुरिया के बीएमओ ने कहा कि मैंने किसी से दुर्व्यवहार नहीं किया, मुख्यमंत्री ने कहा कि ध्यान रखें, लोगों से बढ़िया आचरण होना चाहिए।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर