कवासी लखमा ने राज्यपाल से मांगा जन्मदिन का तोहफा, धर्मांतरण के विरोध में काली पट्टी लगाकर सदन पहुंचे भाजपा विधायक

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज तीसरे दिन भी आरक्षण और धर्मांतरण का मामला गूंजा। मंत्री कवासी लखमा ने विधानसभा परिसर में मीडिया से बात करते हुए कहा कि सड़क से सदन तक सरकार आरक्षण की लड़ाई लड़ रही है। बीजेपी के खाने और दिखाने के दांत अलग हैं। मंत्री कवासी ने बीजेपी को बेशर्म बताया। उन्होंने कहा कि बीजेपी के दबाव में राज्यपाल हस्ताक्षर नहीं कर रही है इस बात को सभी लोग जान रहे हैं।

इतना ही नहीं मंत्री कवासी लखमा ने बताया कि आज उनका जन्मदिन है। इस अवसर उन्होंने राज्यपाल से जन्मदिन के तोहफे के रूप में आरक्षण विधेयक पर दस्तखत करने की मांग की है।

इधर, विपक्ष धर्मांतरण के विरोध में भाजपा विध्याकों के काली पट्टी लगाकर सदन में पहुंचने पर मंत्री कवासी लखमा ने बड़ा हमला किया। उन्होंने कहा कि आरएसएस और बीजेपी लड़ाने का काम करती है। नारायणपुर में भाई से भाई को लड़ाने की कोशिश की जा रही है, इनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होगी।

प्रश्नकाल के बाद फिर से धर्मांतरण का मुद्दा उठा। नारायणपुर की घटना को लेकर विपक्ष ने काम रोको प्रस्ताव लाया। बीजेपी के सदस्यों ने इस पर चर्चा की मांग की। नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल ने अन्य विधायकों के साथ मुद्दा उठाया। भाजपा के सदस्य गर्भगृह में पहुंचकर नारेबाजी की जिसकी वजह से कार्यवाही स्थगित कर दी गई।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू
 पर