आधी रात को कर दिया राशन का आबंटन..! जाँच में सामने आयी गड़बड़ी, मंत्री ने दिए कार्रवाई के निर्देश

आधी रात को कर दिया राशन का आबंटन..! जाँच में सामने आयी गड़बड़ी, मंत्री ने दिए कार्रवाई के निर्देश
आधी रात को कर दिया राशन का आबंटन..! जाँच में सामने आयी गड़बड़ी, मंत्री ने दिए कार्रवाई के निर्देश

बिलासपुर। शहर के एक शासकीय उपभोक्ता भंडार में रात 12 बजे राशन का आबंटन किया गया। विभाग की वेबसाइट में अपलोड रिकॉर्ड में ऐसा ही नजर आ रहा था, जिसकी शिकायत हुई और गड़बड़ी पकड़ी गई। मामले की जानकारी बिलासपुर प्रवास पर आये खाद्य मंत्री अमरजीत भगत को दी गई तो उन्होंने कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए।

एपीएल चावल की हेराफेरी के लिए होता है फर्जीवाड़ा

बिलासपुर नगर निगम के वार्ड क्रमांक 51 के उचित मूल्य की शासकीय दुकान का संचालन करने वाली रश्मि महिला मंडल के सेल्समेन द्वारा बीते 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) की रात करीब 12 बजे चावल का फर्जी वितरण कर डाटा अपलोड कर दिया गया। इसकी जानकारी मिलने पर मामले की शिकायत खाद्य मंत्री से की गई, तब उन्होंने जाँच के बाद संबंधितो के खिलाफ FIR करने के निर्देश दिए।

दरअसल गरीबी रेखा से नीचे की श्रेणी में आने वाले परिवारों के अलावा एपीएल श्रेणी के लोगों को भी 10 रूपये प्रति किलो चावल देने की शुरुआत भूपेश सरकार द्वारा की गयी है, यही योजना उपभोक्ता भंडार संचालकों के लिए कमाई का जरिया बन गई है। एपीएल श्रेणी के अधिकांश लोग उपभोक्ता भंडार से चावल नहीं लेते हैं, जबकि उनकी संख्या के आधार पर चावल का आबंटन उपभोक्ता भंडारों को हर माह दिया जाता है। ऐसे में बचे हुए चावल की संबंधित उपभोक्ताओं को आपूर्ति दिखाकर अफरा-तफरी कर ली जाती है।

दिन की बजाय रात को किया डाटा अपलोड

उपभोक्ता भंडारों द्वारा की जाने वाली गड़बड़ी अक्सर पकड़ में नहीं आती, मगर बिलासपुर नगर निगम के वार्ड क्रमांक 51 के उचित मूल्य की शासकीय दुकान का संचालन करने वाली रश्मि महिला मंडल द्वारा खरीदी का आंकड़ा दिखाने के लिए रात को चावल आबंटन का डाटा अपलोड किया गया, और वह भी 15 अगस्त याने स्वतंत्रता दिवस की रात। ऐसा अगर दिन में किया गया होता तो गड़बड़ी शायद ही पकड़ में आती।

दुकान का आबंटन होगा निरस्त, FIR भी

बिलासपुर जिले के प्रभारी खाद्य अधिकारी राजेश शर्मा ने TRP NEWS को बताया कि रात्रि 07 बजे के बाद राशन का आबंटन प्रतिबंधित है। रश्मि महिला मंडल के उपभोक्ता भंडार की जाँच में पाया गया कि सेल्समेन ऋषभ मेहरा ने आधी रात को डाटा अपलोड करते समय 52 उपभोक्ताओं को चावल का आबंटन करना दिखाया। राजेश शर्मा के मुताबिक जाँच में गड़बड़ी पायी गई है और फ़िलहाल भंडार संचालक को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। कार्रवाई के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि ऐसे प्रकरण में उपभोक्ता भंडार का संचालन निरस्त करते हुए किसी और को संचालन की जिम्मेदारी दी जाती है। इसके अलावा जिम्मेदार लोगों के खिलाफ FIR भी दर्ज कराया जायेगा।

मृतकों का खा गए थे राशन..!

खाद्य अधिकारी राजेश शर्मा ने बताया कि इससे पूर्व भी तखतपुर के एक उपभोक्ता भंडार में गड़बड़ी पकड़ में आयी थी। यहाँ दिवंगत हो चुके उपभोक्ताओं के नाम का राशन आबंटन दिखाकर गबन कर लिया गया था। इस मामले में उपभोक्ता भंडार संचालक के खिलाफ FIR दर्ज कराया गया था।

गौरतलब है कि सरकारी राशन में चावल, शक्कर, मिट्टी तेल के अलावा कई जिलों में चना और अन्य सामग्रियों का आबंटन भी न्यूनतम दर पर किया जाता है। वर्तमान में एपीएल कार्डधारियों को चावल दिया जा रहा है, जिसकी बड़े पैमाने पर हेराफेरी की जानकारी मिल रही है। जिस तरह बिलासपुर में गड़बड़ी उजागर हुई है, वैसी ही जाँच पूरे राज्य में करने की जरुरत है, ताकि इस तरह की अफरा-तफरी उजागर हो सके।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएपपर