Saturday, May 21, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Homeराष्ट्रीयपंजाब के जेलों से अब खत्म होगा VIP कल्चर-CM भगवंत मान

पंजाब के जेलों से अब खत्म होगा VIP कल्चर-CM भगवंत मान

spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने बड़ा फैसला लेते हुए पंजाब के जेलों में व्याप्त वीआईपी कल्चर को खत्म करने का एलान किया है। मान सरकार के इस फैसले से जेल में बंद कैदियों को अब आराम की जिंदगी नहीं मिल पाएगी। साथ ही आप सरकार ने जेलों में मिलने वाले मोबाइल फोन पर सख्त पाबंदी लगा दी है। इस आदेश के बाद जेलों में तेजी से सर्च ड्राइव चलया जा रहा है। अब तक 710 मोबाइल जेल से बरामद हुए हैं।

सीएम मान यह पहले ही साफ कर चुके हैं कि जेलों में अब वीआईपी कल्चर नहीं अपनाया जाएगा। अब जेल के अंदर से कोई भी अपराधी मोबाइल के जरिए अपने काले कारोबार को बाहर नहीं चला पाएगा। साथ ही इसे लेकर लापरवाही बरतने वाले कुछ अधिकारियों को सस्पेंड भी किया गया है। आप सरकार ने कहा है कि अब सुधार घर असल मायनों में अपराधियों को सुधारेंगे और किसी भी तरीके की लापरवाही स्वीकार नहीं की जाएगी।

बंदूक कल्चर को बढ़ावा देने वालों को चेतावनी

इससे पहले भगवंत मान ने गुरुवार को उन गायकों को चेतावनी दी जो कथित तौर पर अपने गीतों के जरिए बंदूक संस्कृति को प्रोत्साहित कर रहे हैं। उन्होंने इस तरह के चलन को अस्वीकार्य करार दिया और कहा कि इसमें शामिल लोगों से सख्ती से निपटा जाएगा। मान ने कुछ पंजाबी गायकों द्वारा बंदूक संस्कृति और गिरोहबाजी को प्रोत्साहन देने के चलन की निंदा की और उनसे आग्रह किया कि अपने गीतों के जरिये समाज में हिंसा नफरत और द्वेष फैलाने से बचें।

मुख्यमंत्री ने ऐसे गायकों से पंजाब की संस्कृति और पंजाबियत का आदर करने और गीतों के माध्यम से समाज विरोधी गतिविधियों को बढ़ावा देने की बजाय भाईचारे, शांति और समरसता के बंधन को मजबूत करने का आग्रह किया। आधिकारिक बयान में कहा गया कि मान ने गायकों से जिम्मेदारी के साथ सृजनात्मक भूमिका निभाने और पंजाब की सांस्कृतिक विरासत को प्रोत्साहित करने का आह्वान किया। मुख्यमंत्री ने मादक पदार्थों के मुद्दे पर उपायुक्तों और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक में यह कहा। 

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

R.O :- 12027/152





Most Popular