लोगों की आय में जबरदस्त वृद्धि हुई है, हमारी नीतियों का मिल रहा है लाभ, बस्तर में अफसरों के साथ चर्चा में कहा सीएम बघेल ने

रायपुर। सीएम भूपेश बघेल ने बस्तर में अफसरों के साथ समीक्षा बैठक में कहा कि लोगों की आय में जबरदस्त बढ़ोत्तरी हुई है। खेती के प्रति आकर्षण बढ़ा है तो पानी की जरुरत भी बढ़ी है।

सीएम ने बस्तर में अफसरों से चर्चा में कहा कि आय बढ़ी तो लोगों की जेब में पैसा आया है, यही कारण है कि साढ़े तीन साल में नक्सली कम हुए हैं। अब टी नक्सली भर्ती तक नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सब ग्रामीणों को काम मिलेगा तो नक्सली भर्ती बन्द होगी, नक्सली अपने-आप खत्म होंगे।

समीक्षा बैठक में सीएम ने कहा हमें मूलरूप से नाला पर काम करना जरूरी है, खेती का समय आ रहा है। पानी की जरूरत सभी को है, यदि पानी की कमी रही तो जानवर शहरों का रुख करते हैं, पक्षी पलायन करते हैं। फारेस्ट एरिया में नरवा नालों में स्टाप डेम का विकास जरूरी है। नदी नालों में जल का स्तर कम हो गया है इसलिए हमें प्राथमिकता के साथ जल संरक्षण के कार्य करने हैं।

सीएम ने कहा कि नरवा के कामों की मॉनिटरिंग कलेक्टर करें, चाहे वे वन क्षेत्रों में भी हों। जमीन एवं वनों के वास्तविक स्वामी आदिवासी हैं, वन विभाग की जिम्मेदारी प्रबंधक की है। उन्होंने कहा कि उपलब्ध चीजों का वैल्यू एडिशन करते जाएं, आय बढ़ेगी। सभी विभागों का उद्देश्य सभी को काम मिले, यह होना चाहिए। लोगों को रोजगार से जोड़े, कृषि कार्य में संलग्न करें, वनोपज संग्रहण, वनोपज का वैल्यू एडिशन करें, इससे लोग प्रोत्साहित होंगे।

लोगों का विश्वास जीता

सीएम ने कहा कि पानी का प्रबंध पहली जरुरत है। स्थानीय किसानों को तिलहन फसल लगाने के लिए प्रेरित करें। साढ़े तीन साल में बड़ा बदलाव आया है। लोगों का विश्वास बढ़ा है। राजस्व प्रकरणों के निराकरण हेतु शिविर लगाएं। उन्होंने अफसरों को निर्देश दिया कि वे सरकार के फैसलों की जानकारी ज्यादा से ज्यादा लोगों को दें। सभी अधिकारी-कर्मचारी दायित्वों का निष्ठापूर्वक निर्वहन करें। आप सभी के सहयोग हम साढ़े तीन वर्षों में लोंगो का विश्वास जितने में सफल हुए हैं।

सहकारी बैंक की बढ़ी मांग

सीएम ने कहा कि भेंट-मुलाकात में सबसे ज्यादा डिमांड सहकारी बैंक की आ रही है। बैंकिंग काम तेजी से करें। बैंक की मांग लगभग सभी जगह है, जहां घोषणा हुई है, वहां बैंक खोलें। हाट बाजार क्लिनिक को और मजबूत करें, बारिश में जल आधारित बीमारियों के बढऩे की आशंका रहती है, ऐसे में स्वास्थ्य विभाग सजगता काम करे।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button