डीजल चोरों ने प्रशिक्षु आईपीएस को कुचलने का किया प्रयास, पूरा गिरोह चढ़ा पुलिस के हत्थे

बिलासपुर। सीपत थाने की जिम्मेदारी संभाल रहे आईपीएस प्रशिक्षु विकास कुमार अपनी टीम के साथ वारंटियों की तलाश में निकले और इस दौरान उनका सामना डीजल चोरों से हो गया। यहां डीजल चोरों ने अपनी गाड़ी रोकने की बजाय पुलिस की बोलेरो गाड़ी पर चढ़ा दी, और भाग खड़े हुए। हालांकि सुबह होने तक पुलिस ने इस पूरे गिरोह को डीजल से भरे वाहन समेत दबोच लिया।

पुलिस के मुताबिक सीपत से थाना प्रभारी आईपीएस प्रशिक्षु विकास कुमार अपने थाना स्टाफ के साथ संदेही चोरों, फरार आरोपियों, स्थाई वारंटी, गिरफ्तारी वारंटी की पतासाजी के लिए थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्रामों की ओर रवाना हुए| रात्रि गश्त के दौरान करीब 4:00 बजे सफेद रंग की बोलेरो वाहन क्रमांक CG 05 F 0734 हिंडाडिह मोड़ के पास थाना प्रभारी की गाड़ी के सामने आई | थाना की गाड़ी देख कर बोलेरो चालक ने भागने की कोशिश की, तभी थाना प्रभारी और टीम अपनी गाड़ियों से उतरे और बोलेरो को घेरने की कोशिश की, तब बोलोरो ड्राइवर एवं आरोपी खुद को बचाने के लिए थाना प्रभारी की गाड़ी को टक्कर मार दी, इस दौरान सभी ने कूद कर अपनी जान बचाई। इधर बोलेरो वाहन में सवार लोग मौका पाकर भाग खड़े हुए। इस फ़ौरन पीछा करने के बावजूद अंधेरे के चलते कोई भी पकड़ में नहीं आया|

2 वाहनों समेत पूरा गिरोह पकड़ाया

पुलिस को सुबह के वक्त मुखबीर के जरिए सूचना मिली कि रात्रि में जो बोलेरो वाहन पुलिस की गाड़ी को टक्कर मारकर भागी है, वह दर्राभाटा में खड़ी है। पुलिस ने तत्काल दबिश दी, मगर वहां पर दूसरी बोलेरो वाहन क्रमांक CG 12 AJ 7659 खड़ी मिली और ड्राइवर दिनेश सोनवानी पकड़ में आया। तलाशी लेने पर गाड़ी में 35 लीटर वाले छह ड्रम में डीजल भरा हुआ मिला। ड्राइवर से पूछताछ करने पर उसने बताया कि एक और बोलेरो गाड़ी है, जो रात्रि में पुलिस की गाड़ी को टक्कर मारी है वह हिंडाडीह में है और हम सब 5 लोग मिलकर कई दिनों से डीजल चोरी कर रहे हैं और आज भी रात को करीब 450 लीटर डीजल की चोरी की है|

इस सूचना के आधार पर टीम हिंडाडीह रवाना हुई। वहां भी ड्राइवर रमेश कुमार एवं बोलेरो वाहन क्रमांक CG 05 F 0734 में 35 लीटर वाले छह ड्रम में डीजल भरा हुआ मिला। पूछताछ करने पर आरोपी ने बताया कि चोरी की डीजल राजू पाटनवार निवासी ग्राम कुकदा के यहां रखते हैं | टीम ग्राम कुकदा के लिए रवाना हुई जहां से तीन 200 लीटर वाले ड्रम, 50 लीटर वाले दस ड्रम और 35 लीटर वाले बारह ड्रम डीजल से भरे हुए राजू पाटनवार के घर से बरामद किया गया। मौके पर राजू पाटनवार नहीं मिला, जिसकी खोजबीन की गई और बाद में उसे भी गिरफ्तार किया गया |

खरीददार भी पकड़ में आये

राजू पाटनवार के घर राधेश्याम एवं सुंदरलाल चोरी की डीजल खरीदने के लिए आए थे, उन्हें भी गिरफ्तार किया गया| आरोपियों द्वारा बताया गया कि उनकी टीम में उमेद राम, धन सिंह, जनक राम सभी निवासी बगडबरी के हैं, जिनकी पतासाजी की गई और बगडबरी से उन्हें भी गिरफ्तार किया गया। इस तरह थाना सीपत की टीम ने डीजल चोरों के खिलाफ एक बड़ी कार्यवाही में सफलता हासिल की।

SECL की खदानों से चुराते हैं डीजल

बिलासपुर, कोरबा और जांजगीर जिले में ऐसे कई गिरोह सक्रिय हैं, जो कोरबा जिले में SECL की कोयला खदानों से देर रात खड़ी मशीनों और भारी वाहनों से डीजल निकाल कर बाहर खपाते हैं। बताया जाता है कि इन गिरोहों का इलाका बंटा हुआ है और ये डंके की चोट पर खदान के भीतर घुस कर डीजल चुराते हैं। SECL ने खदानों की सुरक्षा में CISF के जवानों को लगा रखा है मगर वे भी इस चोरी पर अंकुश नहीं लगा पाते। सूत्र बताते हैं खदानों से कोयला और डीजल चोरी का सारा काम सेटिंग पर चल रहा है और धड़ल्ले से चल रहा है। पुलिस और SECL का अमला गाहे-बगाहे ऐसे गिरोहों के ऊपर कार्रवाई करके केवल औपचारिकता पूरी करता है। अगर ऐसा नहीं है तो इतने बड़े पैमाने पर संगठित तरीके आखिर अवैध कोयला और डीजल की चोरी का धंधा आखिर चल कैसे रहा है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button