राजस्व सचिव के आश्वासन के बाद काम पर लौटे पटवारी, 23 दिनों तक कामकाज रहा ठप्प

जांजगीर-चांपा। इस जिले में एक पटवारी को जांच के बिना निलंबित करने और घूस लेने के आरोप में पुलिस में मामला दर्ज किये जाने के विरोध में 23 दिनों से चला आ रहा आंदोलन समाप्त हो गया है। इस मामले में तहसीलदार और नायब तहसीलदार को जिला कार्यालय में पहले ही अटैच किया जा चुका है।

जांजगीर जिले में किसान से घूस लेते वीडियो वायरल होने के बाद पामगढ़ तहसील क्षेत्र के कोडाभाट पटवारी देवेंद्र साहू के खिलाफ पामगढ़ तहसीलदार और नायब तहसीलदार द्वारा एफआईआर दर्ज कराने और पटवारी को हिरासत में लिए जाने के विरोध में पटवारी 2 जून से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थे। इस मामले की जांच के बिना पटवारी के खिलाफ कार्रवाई किए जाने का विरोध करते हुए कार्रवाई की मांग कर रहे थे। पटवारियों की मांग पर राजस्व सचिव ने मामले की जांच का आश्वासन दिया है, जिसके बाद आंदोलन समाप्त करने का फैसला लिया गया है।

फ़िलहाल जांजगीर जिले में आंदोलन कर रहे पटवारी काम पर लौट आए हैं। पटवारियों ने राजस्व सचिव के जांच के आश्वासन के बाद कलेक्टर को ज्ञापन सौंप कर आंदोलन को समाप्त करने के साथ आंदोलन अवधि का वेतन भुगतान करने की मांग की है।

घूस का समर्थन नहीं, पर कार्रवाई का विरोध

पटवारी संघ के जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव का कहना है कि पटवारी ने अगर घूस लिया है तो उसका हम साथ नहीं दे रहे हैं, लेकिन किसी वीडियो की सच्चाई जाने बिना तहसीलदार और नायब तहसीलदार द्वारा एफआईआर कराना और टीआई द्वारा रिपोर्ट दर्ज होने से पहले पटवारी को हिरासत में लेने का पटवारी संघ ने विरोध किया था। संघ की मांग पर बिलासपुर रेंज आईजी ने आदेश का पालन करने एसपी को निर्देशित किया है, साथ ही कोडाभाट पटवारी देवेंद्र साहू के प्रकरण की जांच करने के निर्देश दिया है। दोषी पाए जाने प कार्रवाई का भरोसा देने के साथ पामगढ़ तहसीलदार और नायब तहसीलदार को जिला कार्यालय में अटैच कर दिया है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button