पंजाब में राष्ट्रीय स्तर के बॉक्सर कुलदीप सिंह की मौत पर उठने लगे सवाल

चंडीगढ़। देश के युवाओं में नशे का लत बढ़ता ही जा रहा है। नशे की जाल इस कदर फैल चुका है कि अब युवा खिलाड़ी भी इसकी चपेट में आ कर मौत को गले लगा रहे हैं। बीते दिनों नशे के कारण पंजाब में नेशनल लेवल बॉक्सर की मौत हो गई है। अब कथित तौर मौत की वजह ड्रग ओवरडोज को माना जा रहा है। वहीं, परिजन अलग ही आरोप लगा रहे हैं। मामला बठिंडा जिले के तलवंडी साबो का है, जहां बुधवार शाम कुलदीप सिंह बेहोशी की हालत में पाए गए थे। बॉक्सर को एक स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

पहले मामला समझें

20 साल के कुलदीप ने 2018 में जूनियर नेशनल में सिल्वर मैडल जीता। वहीं, 2018 में ही खेलो इंडिया यूथ गेम्स में ब्रॉन्ज मैडल अपने नाम किया था। अब खबर है कि बुधवार शाम वह शहर की रामा रोड पर बेहोशी की हालत में मिले। परिजनों का का कहना है कि स्थानीय लोगों ने कुलदीप के बारे में जानकारी दी थी। अब बॉक्सर के शरीर पर सिरींज के निशान मिलने की बात सामने आई है। उनके कोच ने भी आरोप लगाए हैं।

परिवार का क्या कहना है

मिली जानकारी के अनुसार कुलदीप के बड़े भाई मेला सिंह ने कहा कि कुछ स्थानीय युवक कॉलेज क्लास के बाद उसे जबरन अपने साथ ले गए और हमें बाद में जानकारी दी गई कि वह बेहोशी की हालत में मिला है। बाद में जब हम अस्पताल पहुंचे, तो डॉक्टर्स ने हमें बताया कि ड्रग ओवरडोज की वजह से उसकी मौत हो गई।

उन्होंने आगे कहा, ‘स्थानीय लोगों की तरफ से उसे इंजेक्शन दिए गए थे और हमें उम्मीद है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट बातें साफ कर देगी। रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने जानकारी दी है कि 6 युवकों के खिलाफ धारा 304 के तहत मामला दर्ज किया गया है। कोच हरदीप सिंह ने कहा, ‘इन्हीं युवकों ने उसे बुलाया था और हेरोइन के डोज दिए थे। उसे अस्पताल में भर्ती करना पड़ा था। इसके बाद उसने मेरे साथ ट्रेनिंग शुरू कर दी थी और रोज प्रैक्टिस के लिए आता था। कल वही युवक उसे ले गए और जब हमनें उसकी डेड बॉडी देखी, तो हमने सिरींज के 50 से ज्यादा निशान देखे। पहले उस पर सिरींज के कोई निशान नहीं थे। ऐसा कैसे हो सकता है कि यह उसने किया है?’

ये भी पढ़ें : रनवे से फिसला इंडिगो का विमान, बाल-बाल बचे 98 यात्री

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button