Sunday, November 28, 2021
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeTop Storiesपन्ना अभयारण्य में बाघिन की मौत से मचा हड़कंप, वन्यप्राणियों को लेकर...

पन्ना अभयारण्य में बाघिन की मौत से मचा हड़कंप, वन्यप्राणियों को लेकर भी बढ़ी चिंता

spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

टीआरपी डेस्क। देश में इन दिनों कोरोना वायरस के कहर ने त्राहि-त्राहि मचा रखा है। कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने वन्य प्राणियों को भी अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है. इसी बीच वन्यप्राणियों के भी कोरोना पॉजिटिव आने की खबरें सामने आ रही हैं.

कोरोना का प्रकोप अब बाघों पर भी देखने को मिल रहा है। मध्यप्रदेश के पन्ना बाघ अभयारण्य में छह वर्षीय एक बाघिन का शव मिला है। हालाँकि बाघिन के कोरोना रिपोर्ट सम्बंधित कोई रिपोर्ट या जानकारी सामने नहीं आई है. राज्य में पिछले नौ दिन में पांच बाघ, बाघिन एवं बाघ शावकों की मौत हुई है।

पन्ना बाघ अभयारण्य के क्षेत्र संचालक उत्तम कुमार शर्मा ने रविवार को बताया कि पन्ना बाघ अभयारण्य के गहरीघाट परिक्षेत्र के बीट कोनी में कोनी नाला में बाघिन पी-213 (32) शनिवार को मृत पाई गई। उन्होंने कहा कि इस बाघिन के पैर में सूजन होने की जानकारी उन्हें 12 मई को मिली थी। जानकारी मिलने के दूसरे ही दिन से उसका इलाज शुरू करा दिया गया था।

अधिकारियों को नहीं पता मौत का कारण

उत्तम कुमार शर्मा ने बताया कि वन्यप्राणी चिकित्सक ने 13 एवं 14 मई को बाघिन का उपचार किया, जिससे इस बाघिन के पैर की सूजन कम हुई तथा उसने लंगड़ाना भी बंद कर दिया, लेकिन अज्ञात कारणों के चलते शनिवार को उसकी मौत हो गई। उन्होंने कहा कि बाघिन की मौत कैसे और किस बीमारी के कारण हुई, इस संबंध में अभी कुछ भी बता पाना संभव नहीं है।

जांच के बाद पता चलेगा मौत का सही कारण

\उन्होंने ने बताया कि मृत बाघिन के विसरा आदि के नमूने लिए गए हैं, जिसकी जांच उपरांत उसकी मौत का सही कारण स्पष्ट हो सकेगा। उन्होंने कहा कि मौत का कारण प्रथम दृष्ट्या प्राकृतिक प्रतीत होता है। शर्मा ने बताया कि बाघिन के शव का पोस्टमार्टम किया गया है और बाघिन के शरीर में कहीं किसी भी प्रकार की चोट के निशान भी नहीं पाए गए।

इस बाघिन की मौत से एक दिन पहले शुक्रवार को प्रदेश के बांधवगढ़ बाघ अभयारण्य के बफर जोन में एक बाघ का शव क्षत-विक्षत हालत में मिला था। प्रदेश के बैतूल जिले में 11 मई को करीब एक साल के बाघ शावक का शव रेल की पटरियों के पास मिला था। कान्हा बाघ अभयारण्य के भैंसाघाट रेंज में आठ मई को 13 साल के एक बाघ का शव मिला था और सात मई को प्रदेश के बालाघाट जिले के वारासिवनी वन परियोजना अंतर्गत ग्राम खडगपुर अंसेरा के वन में नहर किनारे करीब डेढ़-दो साल का एक बाघ मृत पाया गया था।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे फेसबुक, ट्विटरटेलीग्राम और वॉट्सएप पर

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -Chhattisgarh  Adivasi Mahotsav & Rajoytsav

R.O :- 11641/ 58





Most Popular